Breaking

Tuesday, 14 August 2018

Independence Day पर पीएम नरेंद्र मोदी ने देश को दी खुशखबरी, पढ़िए भाषण की 10 बड़ी बातें

पीएम मोदी ने 2014 से पहले की सरकारों की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए कहा कि हम कड़े फैसले लेने का सामर्थ्य रखते हैं.

नई दिल्ली. देश की आजादी की 71वीं वर्षगांठ के अवसर पर प्रधानमंत्री ने लालकिले की प्राचीर पर तिरंगा झंडा फहराया और राष्ट्र के नाम अपना संबोधन दिया. अपने संबोधन में पीएम मोदी ने दुनिया में भारत की बढ़ती प्रतिष्ठा और इसकी अर्थव्यवस्था में बदलाव को रेखांकित किया. पीएम मोदी ने अपने भाषण में कहा कि 2014 से पहले दुनिया की गणमान्य संस्थाएं और अर्थशास्त्री कहते थे कि हिंदुस्तानी की इकॉनोमी बड़ी रिस्क से भरी है, वही लोग आज हमारे रिफॉर्म की तारीफ कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि जब हौसले बुलंद होते हैं, देश के लिए कुछ करने का इरादा होता है तो बेनामी संपत्ति का कानून भी लागू होता है. पीएम मोदी ने 2014 से पहले की सरकारों की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए कहा कि हम कड़े फैसले लेने का सामर्थ्य रखते हैं, क्योंकि देशहित हमारे लिए सर्वोपरी है. आइए जानते हैं पीएम मोदी के भाषण की 10 बड़ी बातें..
1- 2014 में देश के सवा सौ करोड़ लोगों ने सिर्फ नई सरकार नहीं बनाई, बल्कि देश निर्माण में जुटे रहे. यह सवा सौ करोड़ भारतीयों की टीम इंडिया है. कहां से चले थे, ये नहीं देखेंगे तो अंदाजा नहीं लगेगा कि कहां तक पहुंचे हैं..
2- वर्ष 2013 तक और पिछले 4 साल के काम को देखेंगे तो देश की प्रगति का पता चलेगा. 2013 के आधार पर सोचते तो गांवों में बिजली पहुंचाने में एक-दो दशक और लगते..
3- देश वही है, धरती वही है, आसमान वही, हवाएं वही, सरकार दफ्तर भी वही, निर्णय करने वाले वही, लेकिन आज देश बदल रहा है. हाईवे भी बने और गांवों में चार गुना घर भी बने. 2013 की रफ्तार से चलते तो गांवों के घरों से धुएं वाले चूल्हे खत्म न होते..
4- डिजिटल इंडिया भी बना रहे हैं और दिव्यांगों के लिए डिक्शनरी भी बना रहे हैं. 13 करोड़ मुद्रा लोन, उसमें भी 4 करोड़ लोगों ने पहली बार लोन लिया है, ये अपने आप में बदले हुए हिन्दुस्तान की गवाही देता है..
5- 2014 से पहले दुनिया की गणमान्य संस्थाएं और अर्थशास्त्री कभी हमारे देश के लिए क्या कहा करते थे, वो भी एक जमाना था कि हिंदुस्तानी की इकॉनोमी बड़ी रिस्क से भरी है वही लोग आज हमारे रिफॉर्म की तारीफ कर रहे हैं..
6- कुछ करने की हिम्मत हो तो बेनामी संपत्ति कानून भी लागू हो जाता है. वन रैंक वन पेंशन लागू करने की जिम्मेदारी हमने पूरी की. पहले रेड टैप की बात होती थी, आज रेड कार्पेट की बात होती है.
7- आज सोया हुआ हाथी जाग चुका है. दुनिया में हिंदुस्तान की बात सुनी जा रही है. कई संस्थाओं में पहले सदस्यता का इंतजार रहता था, आज भारत को इनमें जगह मिली है..
8- नॉर्थ-ईस्ट आजकल उन खबरों को लेकर आ रहा है जो देश को प्रेरणा दे रहा है. एक समय था जब नॉर्थ ईस्ट को लगता था कि दिल्ली बहुत दूर है, आज हमने दिल्ली को नॉर्थ ईस्ट के दरवाजे पर लाकर खड़ा कर दिया है..
9- हमने सपना देखा, हमारे वैज्ञानिकों ने सपना देखा. आज मेरा सौभाग्य है कि इस पावन अवसर पर मुझे देश को एक और खुशखबरी देने का अवसर मिला है. साल 2022, यानि आजादी के 75वें वर्ष में और संभव हुआ तो उससे पहले ही मां भारत का कोई संतान, चाहे बेटा हो या बेटी, अंतरिक्ष में जाएगा, हाथ में तिरंगा लेकर जाएंगे. अंतरिक्ष में मानव सहित 'गगन यान' भेजेंगे..
10- हमने किसानों की आय दोगुनी करने का सपना देखा है. बीज से लेकर बाजार तक हम वैल्यू एडिशन करना चाहते हैं. ताकि हमारा किसान भी विश्व बाजार के अंदर ताकत के साथ खड़ा रहे. दुनिया में मछली उत्पादन में भारत दूसरे पायदान पर पहुंच गया है और जल्द ही वह नंबर वन हो जाएगा..

No comments:

Post a Comment